Search This Blog

Saturday, 6 February 2010

विश्व मंगल गो ग्राम यात्रा: गऊ रक्षा आन्दोलन का समर्थन

गऊ का भविष्य बहुत खतरे में

भारत में गाय प्रजाति, जो एक समय में लगभग 70 से अधिक थीं अब कम हो कर सिर्फ 33 बची हैं ! और इन बची हुई मौजूदा नस्लों में भी भुत सारी विलुप्त होने के करीब हैं! परिणाम? भारत की स्वतन्त्रता के बाद गायों की स्न्खेया में ८०% की कमी आ गयी है! भारतवासियों , ख़ास तौर पर गाँव के निवासियों की लिए,

के लिए गाय के महत्व का इनकार नहीं किया जा सकता है! हल ही में गाय की रक्षा के लिए एक वैश्विक अभियान के रूप में शुरू किये गए "विश्व मंगला गऊ-ग्राम यात्रा" को दुनिया भर में करोड़ों लोगों का समर्थन मिला! इस के ज़रीये शुरू किये गए हस्ताक्षर अभियान में सम्मलित होने के लिए विश्व अस्तर पर बहुत सरे लोगों ने अपने हस्ताछर दिए!

गऊ बचाओ यात्रा और रथ यात्रा

बहुत सरे लोग कह सकते हैं की यह गऊ रछा यात्रा अडवानी जी की रथ यात्रा के समान है! परन्तु ऐसा गुमान करना ग़लत है! अडवानी जी की यात्रा राम जनमभूमि को बचने के लिए थी! दुर्भाग्य से उस यात्रा के पश्चात् भड़क उठने वाले सांप्रदायिक दंगों के बारे में कहा गया था की उन्हें रथ यात्रा ने भड़काया है!

भारत हाल ही में तीसरी दुनिया के किसी भी अन्य देश से अधिक शक्ति विकसित की है! यह सिर्फ इस लिए सम्भव हुआ कि भारत ने सफलतापूर्वक एक बहुसांस्कृतिक, बहुभाषी, बहुलवादी और धर्मनिरपेक्ष समाज की स्थापना की है! अब उस का सर्वोच्च प्राथमिकता यह होनी चाहिए कि उसे बरकरार रखे!

स्वाभाविक रूप से, सभी नागरिकों के बीच समानता और हर एक मजहब के मानने वालों को सम्मान दे कर ही यह लछ्य प्राप्त किया जा सकता है! उदाहरण के लिए, हिंदू धर्म जजिस ने भारत ही में जन्म लिया और यहीं बढ़ा, उस का इस भर्ती से बहुत गहरा लगाव है! यही कारण है कि जब भी हिंदू शब्द विश्व के किसी नुक्कड़ या कोने में बोला जाता है, तो भारत की एक तस्वीर सामने आ जाती है! चूंकि हिंदू धर्म में भयों को बहुत सम्मान दिया जाता है, इस लिए उन की सुरक्षा, कम से कम भारत में अवश्य है!

अक्सर भारती गऊ हत्या करते हैं


बहर हाल, यह एक बहतु बड़ी ट्रेजडी है कि मानव के अंदर पाई जाने वाली अच्छे खाग पदार्थों कि लालच ने हमेशा गायों को खतरे में रक्खा है! वह गायों को न सिर्फ मांस के लिए काटता है बल्कि अन्य वेव्सायिक लाभ के लिए भी उन्हें मारा जाता है! अधिक चिंताजनक विडंबना यह है कि मुसलमानों और ईसाइयों के साथ कुछ हिन्दू भी गोहत्या के अमानवीय व्यवहार में शामिल हो रहा हैं! वे कुछ वैदिक छंद को इंगित करके इस व्यवहार को सहीह बताए हैं!


वैदिक दौर में बीफ

स्वामी विवेकानंद कहते हैं कि "हिंदू धर्म में, वैदिक युग एक सब से गौरवशाली युग है!" वेदों से लिया गया धर्म हिन्दुओं के बीच आदर्श मन जाता है! कहा जाता है कि, उस समय गाय कई उपयोगिताओं और बहुत से आशीर्वाद प्रदान के कारण "अगन्या" (जिसे मारा नहीं जा सकता है ) मानी जाती थी! अथर्ववेद की मानेंतो वह गाय का मांस खाने को पूर्वजों के खिलाफ एक अपराध खेयाल करता है! ब्रहस्पति (प्रार्थना या भक्ति का देवता), कहाजाता है, उन कि संतान ले लेता है जो बीफ़ खपत करते हैं!

मगर, कुच्छ वैदिक परंपराओं के अनुसार, "एक बांझ गाय या शादी के समय या किसी मेहमान के लिए कट दी जाती थी!" इसी तरह बहुत से बलिदानों के अवसर पर देवता भक्त गाय कटा करते थे!

ब्राह्मण जो मेहमानों कि मेजबानी को खुद भगवान की पूजा कि तरह समझते थे , एक बड़े मेहमान के लिए बकरी या बाँझ गाय को मार देते थे!

स्वामी विवेकानंद जी ने मदुरा में अपने मेजबानो को संबोधित करते हुए एक बार कहा था कि " "इसी भारत में, एक ऐसा समय था जब बीफ खाए बिना, कोई ब्राह्मण एक ब्राह्मण रह ही नहीं सकता था! तुम्हें वेदों में पढ़ने को मिले गा कि कैसे जब एक, एक राजा, संन्यासिन, या एक महान आदमी किसी घर में आता था तो सब से अच्छा बैल ज़बह किया जाता था!" उन्होंने यह भी कहा कि " उस अवधि में, पांच ब्राह्मण एक गाय को चट कर जाया करते थे!"

क्या आर्या शाकाहारी थे?

आर्या लोग, जौ, दूध, दही, मक्खन, मटन और गोमांस खाया करते थे!

आजमगढ़ के एक महान इतिहासकार, पद्म भूषण से सम्मानित, महा पंडित राहुल संक्रित्ययान (संकृत्यायन) ने अपनी पुस्तक "रिग्वेदिक आर्या" में लिखा है कि ऋग्वेद युग में ज्यादातर लोग कृषि पर निर्भर थे!
रेशम के कपडे तैयार करने के लिए लाखों रेशम के कीड़ों को मारा जाता है

गाय, घोडे और बकरियों उन कि मुख्या संपत्ति की थी और "उन में से कोई ऐसा नहीं था जो मांस नहीं खता था!"


हिंदू धार्मिक हस्तियाँ और मांस

इस तरह का एक बयान मिलता है कि श्री राम और सीता जी मांस का सेवन करते थे! राम जी बहुत सारी पदार्थों के अलावा गाय का मांस और शराब भी आहार के तौर पर लेते थे!

सीता जी ने रावण से, जो एक संत बन कर उनके पास आया था, कहा था, "! स्वामीजी इस कुर्सी पर बैठिये! इस जल से अपने पैरों को धो लीजिये! इस जंगल में से जो चाहो उसे खाइए! मेरा पति फल, आलू, और गोश्त आदि ले कर आ ही जाये गा!" इस तरह कि बात वाल्मीकि रामायण में मिलती है!

रामायण और महाभारत में इस किस्म के उदहारण मिलते हैं कि राम और कृष्ण जी ने शराब पि और गोश्त भी खाया! सीता जी ने गंगा देवी को गोश्त, चावल, और हज़ार बर्तन शराब कि मन्नत मानी थी! "हमारे लिए दयालु बनो, 'हे देवी, और मैं अपने घर वापस हो कर, तुझे पूजूं गी एक हज़ार शराब से और मांस के साथ अच्छी तरह तैयार चावल से!" (रामायण)
हिंदू धार्मिक ग्रंथों के अनुसार, भगवान ने कुछ को खाने के लिए बनाया है और कुच्छ को इस लिए ताकि खाए जाएँ!

मनुस्म्र्ती में लिखा है कि" जो उन खाई जाने वाली चीज़ों का मांस खाते हैं वह कुछ भी बुरा नहीं करते, चाहे वह इस कम को हर रोज़ करे, क्योंकि खुद भगवान ने कुच्छ को खाने कि लिए बनाया है और कुच्छ को ताकि उन्हें खाया जाये!"
कैसे हो गए शाकाहारी?

गौतम बुद्ध, बौद्ध धर्म के संस्थापक, और महावीर, जैन धर्म के संस्थापक, दोनों ने अहिंसा का प्रचार किया! उनहोंने लोगों को शाकाहारी भोजन लेने का निर्देश भी दिया! यह माना जाता है कि यह उनके उपदेश का प्रभाव है कि हिंदुओं ने भी शाकाहारी भोजन अपना लिया, जिस में किसी भी हाल में गोश्त शामिल नहीं है! अन्यथा, हिन्दुओं कि वैदिक युग से ही मांस खाने कि परम्परा रही है!

"बुद्ध और महावीर ने अपने अनुयायियों को पशुओं के वध से बचने की जरूरत पर जोर दिया और वह उन के दृष्टिकोण को तब्दील करने में इस हद तक कामयाब हो गए कि अब कुच्छ मज़हबी पुस्तक जैसे महाभारत और मनुस्मृति भी ऐसे बलिदान का ताज्केरा करती हैं जिस में जानवरों का कोई वध शामिल नहीं है!" यह बात इतिहासकार ओम प्रकाश ने लिखी है!

उन्होंने यह भी लिखा है कि, " जबकि बौद्ध धर्म, जैन धर्म और अशोका और कुमारपला (कुमारापाला) जैसे शासकों के आदेशों ने भारतीयों को शाकाहारी बना दिया, वहीं, वैदिक धर्म के प्रभाव और कई विदेशी जनजातियों की असर ने भारतीयों को मांसाहारी ही बनाये रखा!"

ओम प्रकाश ने एक इतिहासकार बुह्लेर के हवाले से लिखते हैं कि मांस आहार के इस्तेमाल के खिलाफ नियम बाद प्रक्षेप हैं, लेकिन यह कहनाशायद ज्यादा मुनासिब हो गा कि जैसे जैसे बुद्ध और महावीर (और शायद अशोका भी) के निर्देशों ने लोगों के नजरिये को बदला, वैसे वैसे शाकाहारी के नियम भी दाखिल होते गए!

असल में गौतम बुद्ध लोगों को ब्रह्मिनों की ग़ुलामी से छुड़ाना चाहते थे और ब्रह्मिन परमेश्वर के नाम पर लाखों पशुवों को कुर्बान करते थे! महात्मा जनौरों को बलि देने से अच्छा उन्हें मुक्त कर देना ज़यादा अच्छा समझते थे! उस वक़्त, छोंकी, लोग पशुवों पर निर्भर करते थे इस लिए उन्हें बुद्ध कि बातें बहुत भली मालूम हुईं और वह तेज़ी से बुद्ध धर्म अपनाने लगे! ब्राह्मणों ने लोगों को बुद्धिस्ट होने से रोकने के लिए, जानवरों की बलि देने पर मुकम्मल पाबन्दी लगा दी और अपने इस कम को हिन्दू धर्म का आदेश बताया! गाय पहले ही से एक धार्मिक पशु के रूप में जाना जाता था, तो वह अब बहुत ज़यादा पवित्र होगयी!

बातें अलग अलग हैं

लेकिन कुछ दूसरे विरोधाभासी बयानात भी पाए जाते हैं जिन पर आधारित हो कर इतिहासकार द्विन्देरा नारायण झा ने यह निष्कर्ष निकाला है कि मांस, यहां तक कि गाय का भी, प्रारंभिक बौद्धों और जैनियों का आहार था! कई पक्षी, मछली और पशुओं का शिकार किया जाता था और उनके मांस को उत्सव के मौकों पर इस्तेमाल किया जाता था!

झा के मुताबिक, Mahaparinibbana Sutta और Anguttara Nikaya के ग्रंथों से पता चलता है की बुद्ध गे का गोश्त और अन्य मांस खा लिया करते थे! "वास्तव में, बुद्ध सूअर का मांस खाने के बाद मरे थे!" वह और भी लिखते हैं की "शाकाहार, एक ऐसे समाज में जहाँ है कि सभी प्रकार के मांस, सुअर, गैंडा, गाय, भैंस, मछली, सांप, सहित पक्षी खाए जाते थे, बौद्ध भिक्षुओं के लिए एक व्यवहार्य विकल्प नहीं था!"

इब्तेदा में जैन मांस भक्षण करते थे! झा के मुताबिक महावीर ने एक बार एक दुश्मन के साथ युद्ध के लिए योग शक्ति पाने के लिए चिकन खाया था! झा कहते हैं कि "उनकी एकमात्र शर्त थी कि खाना पकाने वाली औरत से कह दें, कि वह ऎसी मुर्ग़ी पकाए जिसे बिल्ली ने पहले ही मार डाला हो! न कि ऐसी मुर्ग़ी बनाये जिसे ज़बह करना पड़े!"

क्या यह शाकाहार की बात करने वालों का डबल मानक नहीं है? वोह तो दुसरे लोगों से कहते हैं कि किसी भी जीवित प्राणी को मरना अमानवीय है लेकिन वह खुद रेशम के कपड़े पहनते हैं! जबकि रेशम के कपड़े लाखों रेशम के कीड़ों को मरने के बाद तैयार किये जाते हैं! किसी भी जीव को न मरने कि वकालत करने कि वजह से सब से पहले उन्हें रेशमी कपड़े का उपयोग करना रोक देना चाहिए!

इसके विपरीत, जैन, बुद्ध और हिन्दू धर्मों के नेताओं को रेशमी कपड़ों में देखा जा सकता है! कहाँ है दावा है और कहाँ गयी मानवता?

बहरहाल , बुद्ध और महावीर अहिंसा और शाकाहार के प्रचार के लिए जाने जाते हैं! यदि ऐसा न होता तो अक्सर जैन और बौद्ध को मानने वाले शाकाहारी नहीं होते बल्कि वोह गाय का गोश्त भी खाते!

गाय की रक्षा अवश्य की जाये

जैसा कि पहले लिखा जा चूका है कि गाय कि बची हुई नसल सुरक्षा उच्च प्राथमिकता की सूची में होनी चाहिए! ग्रामीण क्षेत्रों में अक्सर लोग पूरी तरह से कृषि पर निर्भर हैं और उनके रहने के लिए गायों की आवश्यकता का इंकार नहीं किया जा सकता है! गाय उन किसानों को कृषि के लिए पर्याप्त मात्र में खाद देती है, उन के बच्चों को दूध पिलाती है! बैल खेतों को जोत कर उसे कृषि यौग्य बनाता है और भारत के दूर के छेत्रों में जहाँ अभी भी ट्रेन या बस की सेवाएँ उपलब्ध नहीं हैं, वहां सामान और खुद आदमियों यहाँ से वहां लेन ले जाने में सहायता करता है! गाय के दूध से और बहुत सारी खाग्य पदार्थें बनाई जाती हैं जो मानव शरीर के लिए अत्यंत ज़रूरी हैं! इस लिए, कम से कम दर्जे में बची हुई गायों की प्रजातियों को बाकी रखने और उन्हें बढ़ने कि अवाशेकता है! परन्तु, अगर उन के ज़बह करने पर पाबन्दी लगाई जाती है तो यह मकसद कभी भी हासिल नहीं हो सकता है!

घायल बैल और बांझ गाय का क्या हो गा ?

आदमी, स्वाभाविक रूप से है, उसी चीज़ में इच्छुक है जो उसके उद्देश्य को पूरा करता हो! एक बैल जिसे चोट लग गयी हो या एक गाय जो अब दूध नहीं देती हो या बाँझ हो चुकी हो, हव मानव को उस हिसाब से लाभ प्रदान नहीं कर सकते जितना कि वह उन के पीछे खर्च करे गा! हाँ, वही गाय या बैल, अगर किसी कंपनी को दे दिए जाएँ जो उनके उत्पादनों या खुद उनका बिज़नेस करते हों , तो वह लाभ प्रदायक हो जाएँ गे! अगर, गाय हर उम्र में और हर हाल में फ़ाएदेमन्द हो तो लोग इस से उत्साहित हो कर ज्यादा से ज्यादा गायो को पालें गे और इस तरह से उन गायों को कोई भी खतरा नहीं रहे गा! उन कि अदद आये दिन बढ़ती रहे गी! वरना, एक गरीब किसान जिस के लिए एक दिन के भोजन का प्रबंध करना भी कठिन हो, वह बगैर फाएदे के किसी गाये या बैल को कैसे खिला सकता है?

गायों की रक्षा के आदर्श तरीका यां नहीं है कि उनकी हत्या पर प्रतिबंध लगाने की वकालत की जाये! कयोंकि यह उन लोगो को हतोत्साहित करे गा जो किसी ज़ख़्मी बैल या बाँझ गाय को खिलने नहीं सकते हैं!

अगर व्यापार बिंदु से देखा जाये तो भी गोहत्या पर प्रतिबंध व्यावहारिक नहीं दिखता है! गायों, उनके खालों और उनके सम्बंधित उत्पादों का एक विशाल पैमाने पर व्यापार होता है! बहुत सरे हिन्दू भाई या तो इन व्यापारों से अपनी दो वक़्त की रोज़ी रोटी कमाते हैं! हमारे रिपोर्टर का कहना है कि बैंगलोर की पांच बड़ी गऊ बाजारों में ९८% हिन्दू भी काम करते हैं!

यदि किसी विशेष उत्पाद के लिए बहुत मांग हो तो उस की आपूर्ति में वृद्धि होती है! अगर गऊ उत्पादन कि मांग ज्यादा होती है तो और ज्यादा किसान गायों का पालन पोषण शरू करें गे! इस तरह से गायों कि तादाद भारत में बढ़ाई जा सकती है! इस से किसानों को आर्थिक फायदा भी हो गा!

बहुत से मुसलमान बीफ नहीं खाते

दिलचस्प बात यह है कि आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में रहने वाले भुत से मुसलमान गाय और बछड़े का मांस नहीं खाते हैं! उनका दावा है कि वह अरब से भारत आये हैं और वह सयद हैं, इसलिए वह गाय का मांस नहीं खा सकते!

इसी तरह, शिन, पाकिस्तानी मुसलमान जो दर्दिस्तान छेत्र (दर्दिस्तान Gottlieb William कि एक इस्तेलाह है जिसे वह पाकिस्तान के उत्तरी क्षेत्रों के लिए इस्तेमाल करता है!) में रहते हैं वह गाय को नीचा समझते हैं, उन के साथ सीधे संपर्क से बचते हैं, उन का दूध नहीं पीते, उस के गोबर को ईंधन के लिए प्रयोग करते है, और मांस को खाघ के लिए स्वीकार नहीं करते!

अब भी बकरियों के बाज़ार में अरबी शब्दावली का प्रयोग होता है, जिस का मतलब है की इस्लाम के सरचश्मा अरब असल में बकरियों ही में व्यापार करते थे

अरब लोग, इस्लाम की जड़, गोमांस नहीं खाते थे! यह केवल तब हुआ जब मुसलमानों ने भारत में प्रवेश किया, कि उन्होंने अपने भोजन में गाय का मांस भी शामिल किया! भारत के कई क्षेत्रों में, अरबी शब्दावली अभी भी बकरी बाजार में बोली जाती है! इस से यह संकेत मिलता है कि अरबों ने अन्य पशुओं की तुलना में बकरियों के व्यापार किया!
नेपाल में भैंस कि हत्या होती है

अब तक भी, भैंसों सहित बहुत सरे पशुओं का नेपाल में बलिदान किया जाता है! एक अनुमान के अनुसार सिर्फ इसी वर्ष ३, ००, ००० से ५, ००,००० जानवरों और पक्षियों को देवी Gadhimai के लिए बलिदान किया गया!

यहाँ यह यद् रहे कि Gadhimai मंदिर विश्व में केवल हिंदू राष्ट्र नेपाल में स्थित है! मंदिर के एक पुजारी ने कहा कि "अगर मैं तुम्हें एक मोटा अनुमान दूं तो लगभग, २०,००० भैंस, ३०,०००-३५,००० बकरी और अनगिनत पक्षियों और कबूतरों को इस दिन उदय जाता है, और उन में से ज्यादा तर को बलि दे दी जाती है!"

कैसे मनुष्य के खूनी गायों के रक्षक हो सकते हैं

यह बहुत आश्चर्यजनक है कि गौ संरक्षण के वकील धर्मनिरपेक्ष लोगों की हत्या की भी वकालत कर रहे हैं! पिछले कुछ ऐतिहासिक घटनाओं को सरसरी तौर पर देख कर पता चलता है कि चाहे वह राम जन्मभूमि के सहयोगी हों या गऊ रक्षा आंदोलनों के सहयोगी, वह सब से आगे आगे देखे गए हैं निर्दोष लोगों का खून बहाने कि बारी आयी है; चाहे बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद के दंगे हों या भागलपुरके दंगे ! आम भावना यहस्वीकार नहीं करती है कि मानव रक्त के प्यासे गऊ की रक्षा करने वाले हो सकते हैं! होना तो यह चाहिए कि मानव के खून को प्राथमिकता दी जाये, जो कि परमेश्वर की सभी रचनाओं में सब से उत्तम है, न कि उन जानवरों के रक्त को जिन्हें ईश्वर ने खाने कि लिए पैदा किया है!

क्या यह यात्रा केवल राजनीतिक रूप से सही है?

कई लोगों का कहना है कि दुनिया भर में गाय संरक्षण आंदोलन राजनीति से प्रेरित है! एह एक ऐसा दोष है जो आडवाणी जी की रथ यात्रा के बारे में भी लगाया गया था! इसे कम के लिए समर्पित एक वेबसाइट के अनुसार यात्रा, श्री राघवेश्वारा भारती स्वामीजी जो कर्नाटक में Ramachandrapura मठ के शंकराचार्य हैं, के द्वारा प्रेरित है! यह सच है कि धार्मिक भावनाओं को भारत में राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल किया गया है चाहे वह राम मंदिर का केस हो या गऊ रक्षा का मुद्दा हो!

डी.एन. झा का मानना है कि गऊ की पवित्रता, इसकी मूल भावना में, दयानंद सरस्वती के १९ वीं सदी में गाय संरक्षण आंदोलन से जा कर मिलती है! सरस्वती (१८२४ -१८८३) ने गाय की रक्षा के लिए एक राष्ट्रव्यापी आंदोलन छेड़ा था जिस के कारण बाद में कई हिंदू और मुसलमानों के बीच सांप्रदायिक दंगे भी हुए थे! झा का मन्ना है कि "गाय, गाय-संरक्षण आंदोलन के साथ ही एक व्यापक राजनीतिक लामबंदी का उपकरण हो गयी!"

१०८-दिन लंबी विश्व मंगला गऊ ग्राम यात्रा, जो कुरुक्षेथरा (हरयाणा) में ३० सितम्बर, २००९ को शुरू हुई और नागपुर में १७ जनवरी, २०१० को समाप्त हुई, का समय अपनी मंशा के बारे में संदेह उठता है! खास तौर पे जब कि आर एस एस के थिंक टैंक अरुन शूरी ने कहा है कि राम जन्मभूमि मुद्दा में अब कोई दम नहीं रहा है!

हालांकि इस यात्रा के तात्कालिक उद्देश्य, अन्य धर्मों की भी मदद से, गाय की सुरक्षा को सुनिश्चित करना है, इस का समय बताता है कि इस के पीछे राजनीतिक इच्छा छिपी हुई है!

भारतीय राजनीति में, यह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की समर्थन वाली भाजपा के लिए एक महत्वपूर्ण मोड़ है और उस के लिए "करो या मरो" कि स्थिति है!

इसलिए, कुछ विश्लेषकों का मानना है कि यह यात्रा भारत में एक बार फिर से, बाबरी मस्जिद के विध्वंस से पहले कि तरह, सम्पर्दयिकता को भड़काने का एक प्रयास हो ताकि पार्टी कि साख को बाकी रखने में मदद मिले! भारतीय इतिहास में ऐसे बहुत से उदाहरद मिलते हैं जहाँ धर्म के नाम पर राजनैतिक लाभ उठाए गए हैं! खा जाता है कि बाबर, अकबर, जहांगीर और औरंगजेब ने गोहत्या पर सीमित प्रतिबंध लगाया था ताकि उस समय के ब्राह्मण और जैन के दिलों को जीतें!

यात्रा सारे हिंदुओं द्वारा समर्थित नहीं है

सच बात तो यह है कि बहुत से हिंदू और यहां तक कि दक्षिण भारत में ब्राह्मण भी बीफ़ खाते हैं! शायद, इसी कारण बहुत कम हिंदुओं- १२०३९ , जनवरी २२, २०१०, के अनुसार- ने इस यात्रा के समर्थन में हस्ताक्षर किए! और उन हस्ताक्षरों में भी भारत से हिंदुओं की संख्या कुछ ज़यादा नहीं है! हालांकि वेबसाइट से पता चलता है, कि लोगों ने अमेरिका, ब्रिटेन, दुबई, आस्ट्रेलिया, अर्जेंटीना, वेनेजुएला, हवाई, मलेशिया, श्रीलंका, ओमान, कनाडा, जर्मनी, चीन, पुर्तगाल, पोलैंड, मलेशिया और ब्राजील से भी हस्ताक्षर दिए हैं!

क्या किया जाये?

अब यह बिलकुल वज़ह हो गया है कि बहुत सरे हिन्दू भी गाय का गोश्त खाते हैं! यह किसी भी तरह उचित नहीं कि गोहत्या पर प्रतिबंध लगाने के नाम पैर लोगों को अपने वैदिक धर्म का पालन करने से रोक दिया जाये और उन सइ कहा जाये कि अपनी धार्मिक पुस्तकों का पालन न करें!

बहुत से हिंदू, ब्राह्मण भी, अब भी गोमांस की खपत करते हैं! यह इस बात का सबूत है कि हिंदू धर्म में, वेदों के अनुसार, सख्ती से गाय हत्या को मना नहीं किया गया है! बहुत सरे बलिदान बगैर गाय और बैल की हत्या के पूरे नहीं होते हैं!
अब समय आ गया है कि हिंदू भाई इस बात पर विचार करें और राजनीति से प्रेरित आंदोलन से अप्रभावित रहें! वरना हमारे देश में शांति एक बार फिर ख़त्म हो जाये गी!

जे मसीह

5 comments:

  1. स्वामी विवेकानंद जी ने मदुरा में अपने मेजबानो को संबोधित करते हुए एक बार कहा था कि " "इसी भारत में, एक ऐसा समय था जब बीफ खाए बिना, कोई ब्राह्मण एक ब्राह्मण रह ही नहीं सकता था! तुम्हें वेदों में पढ़ने को मिले गा कि कैसे जब एक, एक राजा, संन्यासिन, या एक महान आदमी किसी घर में आता था तो सब से अच्छा बैल ज़बह किया जाता था!" उन्होंने यह भी कहा कि " उस अवधि में, पांच ब्राह्मण एक गाय को चट कर जाया करते थे!"

    ReplyDelete
  2. कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,
    धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,
    कलम के पुजारी अगर सो गये तो
    ये धन के पुजारी
    वतन बेंच देगें।



    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में प्रोफेशन से मिशन की ओर बढ़ता "जनोक्ति परिवार "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ ,

    ReplyDelete
  3. हिंदी ब्लाग लेखन के लिये स्वागत और बधाई । अन्य ब्लागों को भी पढ़ें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देने का कष्ट करें

    ReplyDelete